95. तव मूरति विधु उर बसहि, सोई स्यामता आभास।

आज फिर से  प्रस्तुत है, एक और पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

 आज गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस का एक अत्यंत प्रेरक प्रसंग याद कर लेते हैं। आजकल नियोजक अपने कर्मचारियों का चयन करते समय तथा बाद में अनेक अवसरों पर उनका मनोवैज्ञानिक परीक्षण करते हैं।

श्रीराम जी को लंका पर चढ़ाई करनी थी और उससे पहले एक प्रकार से उन्होंने अपने साथियों की मनोवैज्ञानिक परीक्षा ली। इससे यह मालूम होता है कि कौन श्रीराम जी के प्रति, किस हद तक समर्पित था।

 चंद्रमा को देखकर श्रीराम जी ने पूछा कि चंद्रमा में जो यह कालापन दिखाई देता है, ये किसलिए है ( कह प्रभु ससि महुं मेचकताई) –  

प्रभु के इस प्रश्न के उत्तर में सभी लोग, अपनी मानसिक स्थिति, अपनी कुंठाओं आदि का प्रदर्शन करने लगे-

सुग्रीव ने कहा कि चंद्रमा में पृथ्वी की छाया दिखाई दे रही है। इसमें उसकी यह कुंठा दिखती है कि उसका उत्तराधिकारी बाली का पुत्र अंगद होगा, उसका अपना पुत्र नहीं।

किसी ने कहा कि यह चंद्रमा के कर्मों का फल है, राहू ने चंद्रमा को एक बार ऐसा चांटा मारा था, जिसकी छाप आज तक दिखाई देती है और चंद्रमा को हमेशा उसके दुष्कर्म की याद दिलाता रहेगा। तभी कोई बोला कि चंद्रमा को अपनी सुंदरता पर बहुत घमंड था, उसका घमंड दूर करने के लिए, उसके हृदय में छेद करके, उसकी कुछ सुंदरता कामदेव की पत्नी, रति को दे दी गई। इसीलिए तो कहते हैं कि घमंड नहीं करना चाहिए!

कोऊ कह जब विधि रति मुख कीन्हा,

सार भाग ससि कर हर लीन्हा।

छिद्र सो प्रकट इंदु उर माहीं।

तेहि मह देखिअ नभ परछाहीं।

सामान्यतः लोगों का यह स्वभाव होता है कि वे अपनी ही न्यूनताओं, कुंठाओं से घिरे रहते हैं और दूसरे लोगों से अक्सर बिना कारण द्वेष और नफरत करते हैं।

लोगों के विचारों की इस रौ में श्रीराम जी अपना मत भी जोड़ देते हैं- वे कहते हैं कि विष, चंद्रमा का प्रिय भाई है, (क्योंकि दोनों की उत्पत्ति समुद्र मंथन से मानी जाती है), और चंद्रमा ने अपने प्रिय भाई को अपने हृदय में स्थान दिया हुआ है, और श्रीराम जी कहते हैं कि चंद्रमा अपनी विषयुक्त किरणें फैलाकर मुझ जैसे विरही नर-नारियों को जलाता रहता है।

सभी ने अपने विचार रखे, बल्कि ऐसा होता है कि अपने नकारात्मक विचार रखने के लिए लोग तत्पर रहते हैं, हनुमान जी कुछ नहीं बोले, प्रभु को हनुमान जी से पूछना पड़ा कि आप भी तो अपनी राय बताइये। इस पर हनुमान जी ने कहा-

कहि मारुतसुत सुनहु प्रभु, ससि तुम्हार प्रिय दास,

तव मूरति विधु उर बसहि, सोई स्यामता आभास।

हनुमान जी प्रभु से कहते हैं कि चंद्रमा आपका प्रिय दास है और आपकी छवि  चंद्रमा के हृदय में बसी है, उसी का श्याम आभास होता है। हनुमान जी प्रभु के प्रति समर्पित हैं और उनको दूसरे लोग भी अपने जैसे ही लगते हैं।

प्रभु यह उत्तर सुनकर बहुत प्रसन्न हुए। हम कह सकते हैं कि हनुमान जी के हृदय में सिर्फ प्रेम था, किसी से नफरत नहीं, क्योंकि उनके हृदय में प्रभु राम बसे थे। वे तो धरती पर ही प्रभु के काम के लिए आए थे।

इसे प्रभु द्वारा किया गया मनोवैज्ञानिक परीक्षण कह सकते हैं और इसमें परम सफल तो हनुमान जी ही हैं।

नमस्कार।

***************