आज अपने प्रिय गायक मुकेश जी के गाये एक गीत का पहले अंग्रेजी रूपांतर प्रस्तुत करूंगा और बाद में मूल गीत प्रस्तुत करूंगा। यह गीत शैलेंद्र जी ने लिखा था और इसका संगीत दिया था – शंकर-जयकिशन कि विख्यात जोड़ी ने, फिल्म है- 1962 में रिलीज़ हुई- हरियाली और रास्ता। फिल्म के नायक थे- मनोज कुमार जी और नायिका थीं माला सिन्हा जी।

पहले प्रस्तुत है, इस गीत का अंग्रेजी रूपांतर, जो मैंने करने का प्रयास किया है-

I am now going to erase your memories from my heart,
It’s like I am going to shatter my very existence!

O clouds, you have to be with me,
Since I am going to shed a lot of tears.

At that very place, where I dreamt a lot,
There only I am going to put my ashes before the winds.

O sufferings of love, come and burn my chest-
my clothing,
That way I am going to extinguish-
the fire burning in my heart.

और अब प्रस्तुत है ये खुबसूरत गीत, अपने मूल रूप में-

तेरी याद दिल से भुलाने चला हूँ
कि ख़ुद अपनी हस्ती मिटाने चला हूँ
तेरी याद दिल से भुलाने चला हूँ।

घटाओ तुम्हें साथ देना पड़ेगा
मैं फिर आज आँसू बहाने चला हूँ।
तेरी याद दिल से …

कभी जिस जगह ख़्वाब देखे थे मैंने
वहीं ख़ाक अपनी उड़ाने चला हूँ।
तेरी याद दिल से …

ग़म-ए-इश्क़ ले फूँक दे मेरा दामन
मैं अपनी लगी यूँ बुझाने चला हूँ।
तेरी याद दिल से …

आज के लिए इतना ही
नमस्कार।