पिछले दिनों मैंने लॉर्ड बॉयरन की कुछ कविताओं का भावानुवाद प्रस्तुत करने का प्रयास किया था। कविता में एक खूबसूरती यह भी होती है कि हर कोई उसे अपनी तरह से समझ सकता है। आज मैं विख्यात अंग्रेजी कवि श्री रॉबर्ट फ्रॉस्ट की एक कविता का भावानुवाद और उसके बाद मूल कविता प्रस्तुत कर रहा हूँ। अच्छा लगेगा तो आगे और भी कविताएं और उनका अनुवाद प्रस्तुत करूंगा। पहले प्रस्तुत है मेरे द्वारा किया गया कविता का भावानुवाद-

किसके हैं ये घने जंगल, लगता है कि मैं उसे जानता हूँ,
हालांकि उसका घर तो दूर गांव में है;
वह नहीं जान पाएगा कि मैं यहाँ रुका हूँ,
उसके जंगलों का बर्फ से भरा जाना देखने के लिए।

मेरा छोटा सा घोड़ा चकित भाव से सोच रहा होगा,
कि क्यों रुके यहाँ हम, नहीं है जहाँ कोई फार्महाउस भी आसपास!
घने जंगलों और बर्फ जमी झील के बीच
वर्ष की सबसे अंधियारी शाम में।

वह अपने साज़ में लगी घंटियों को एक झटके से बजाता है,
शायद यह पूछने के लिए कि कहीं कोई गलती तो नहीं हुई,
इसके अलावा जो आवाज़ यहाँ कानों में पड़ती हैं
वे हैं मात्र धीमी हवा और गिरती बर्फ की।

ये जंगल हैं बहुत प्यारे, गहरे और अंधियारे,
लेकिन मुझे निभाने हैं कुछ वायदे
और मीलों चलना है, सो जाने से पहले,
मीलों चलना है, सो जाने से पहले।
रॉबर्ट फ्रॉस्ट

और अब मूल अंग्रेजी कविता-

Stopping By Woods On A Snowy Evening

                                     -<strong> Poem by Robert Frost</strong>

Whose woods these are I think I know.
His house is in the village, though;
He will not see me stopping here
To watch his woods fill up with snow.

My little horse must think it queer
To stop without a farmhouse near
Between the woods and frozen lake
The darkest evening of the year.

He gives his harness bells a shake
To ask if there is some mistake.
The only other sound’s the sweep
Of easy wind and downy flake.

The woods are lovely, dark and deep,
But I have promises to keep,
And miles to go before I sleep,
And miles to go before I sleep.
Robert Frost

नमस्कार।
************