Posts for December 2018

What makes a contest?

A question have been raised about the blogging activity of Indian bloggers. Why they participate in hundreds of numbers when there is a contest, but normally around ten or less participate, submit their blog posts on Indispire topics.   I […]

तुम समुद्र की पुत्री हो!

आज भी मैं विख्यात कवि नोबेल पुरस्कार विजेता- श्री पाब्लो नेरुदा की मूल रूप से ‘स्पेनिश’ भाषा में लिखी गई एक कविता के अंग्रेजी अनुवाद के आधार पर उसका भावानुवाद और उसके बाद अंग्रेजी में अनूदित कविता, जिसका मैंने अनुवाद […]

22. बैरी अंधियारे से कॉपी जंचवानी थी!

चलिए पुराने पन्ने पलटते हुए, एक क़दम और आगे बढ़ते हैं। जीवन यात्रा का एक और पड़ाव और, एक और पुराना ब्लॉग! हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड का मऊभंडार में कारखाना था, जहाँ मेरा साक्षात्कार एवं चयन हुआ था, बड़े अधिकारी यहाँ […]

प्रेम गीतिका- 11

आज भी मैं विख्यात कवि नोबेल पुरस्कार विजेता- श्री पाब्लो नेरुदा की मूल रूप से ‘स्पेनिश’ भाषा में लिखी गई एक कविता के अंग्रेजी अनुवाद के आधार पर उसका भावानुवाद और उसके बाद अंग्रेजी में अनूदित कविता, जिसका मैंने अनुवाद […]

Travel Responsibly!

So today again I am expressing my views based on a weekly prompt on #IndiSpire. I remember that when I visited Dubai, we travelled to many nearby areas with my son there, who has become an expert in driving as […]

WOW: The Last Time He Saw Her

Raghav and Priyanka knew each other quite well, this much can be said without any doubt. They accidentally got in touch when Ragav had gone to watch a movie of his favorite heroine, which incidentally also featured the beloved hero […]

Ad


blogadda

blog-adda

top post

BlogAdda

Proud to be an IndiBlogger

Skip to toolbar