आज पंजाबी गीतों के सम्राट- श्री गुरदास मान जी का गाया एक गीत शेयर करने का मन है। पंजाबी संगीत की एक अलग पहचान है और उसमें बहुत लंबे समय से गुरदास मान जी का स्थान ऐसा है, जिसके आसपास कोई दूसरा नहीं पहुंच पाया है।

श्री गुरदास मान जी का यह गीत भी बहुत प्रसिद्ध है, इसके कई स्वरूप हैं शायद, कभी वे कुछ इसमें जोड़ देते हैं, कभी कुछ छोड़ देते हैं। मुझे पंजाबी का अधिक ज्ञान नहीं है, इसलिए कुछ गल्तियां रह गई होंगी, लेकिन इस गीत को शेयर करने का बहुत मन था, इसलिए गल्तियों के लिए अग्रिम क्षमायाचना करते हुए यह गीत शेयर कर रहा हूँ-

दिल दा मामला है –
दिल दा मामला है, इतना करो सजन
तौबा खुदा दे वास्ते,
दिल तौं डरो सजन–
दिल दा मामला है।

नाज़ुक ज्या दिल है मेरा,
गल्ती दिल होया तेरा,
रातां नू नींद ना आवे,
खान नू पावे हनेरा,
सोचां विच गोते खांदा,
चढ़दा है नवा सवेरा,
एदा जे हुंदी ऐसी, होवेगा किवें बसेरा,
तौबा खुदा दे वास्ते, पीड़ा हरो सजन।

इको गल केहंदा तैनू, मर जैगा आशिक़ तेरा,
हो जिद ना करो सजन जी – दिल दा मामला है –
दिल दा मामला है।
मेरी गल जे मानो तां
दिल दे नाल दिल ना लाना, दिल नू ऐदा समझाना,
दिल नू ऐदा समझाना,
इश्क़ अनेया करे सजाखेया नू,
ऐदे नाल दी कोई ना मरज़ लोको,
जे कर ला बहिए फेर साथ दइये,
सिरा नाल निभाइये फरज़ लोको
दिल नू कहीं ला ना बैठी,
चक्कर कोई पा न बैठी,
दिल दी गल मनदी-मनदी, पंडियां करवां ना बैठी,
दुनिया दे ताने मेरे, झोली विच पा ना बैठी,
तौबा खुदा दे वास्ते, इतना करो सजन।
दिल दा मामला है।

जे कर किते लग वी जावे सजना दी गली ना जाना,
नही ते पै सी पछताउना, सजना दी गली च लड़के,
तेरे नाल खार खान गे, तैनू ले जान गे फड़के,
तेरे ते वार करण गे, लड़की दा प्यो बुलवा के,
ऐसी फिर मार करण गे,
हो कुछ ते करो सजन-
– दिल दा मामला है – दिल दा मामला है।

दिल दी गल पूच्छो ही ना, बहुता ही लापरवाह है,
पल विच एह कोल ए
पल विच लापता है, इसदे ने दरद अवाल्ले,
दर्दा दी दर्द दवा है,
मस्ती विच होवे जे दिल,
तां फिर एह बादशाह है, फेर तां एह कुछ नी देखदा
चंगा है कि बुरा है,
मैं हाँ, बस मैं हाँ सब कुछ,
केहरा सा और खुदा है,
दिल दे ने दर्द अवल्ले,
आशक़ ने रेहंदे कल्ले,
ताहिओ ते लोकी केहंदे आशक़ ने हौंदे झल्ले,
सजना दी याद बिना कुछ, हुंदा नी एन्ना पल्ले,
दिल नू बचा के रक्खो सोह्नियां चीजां कोल्लो,
एन्नू छुपा के रक्खो, नजरां किते ला न बैठे,
चक्कर कोई पा ना बैठे,
एह्दी लगाम कसो जी, धोखा किथे खा ना बैठे,
हो दिल तो डरो सजन, दिल – दिल दा मामला है –
दिल दा मामला है।

‘मान’ मरजाने दा दिल, तेरे दिवाने दा दिल,
हुणे चंगा भला सी,
तेरे परवाने दा दिल,
दोआं विच फरक बड़ा है,
अपने बेगाने दा दिल,
दिल नाल जे दिल मिल जावे,
सडदा जमाने दा दिल,
हरदम जो सड़दा रेहंदा,
ओही इक आने दा दिल,
दिल नू लाउना ही है,
बस इस ठां लां ही छड्डो,
छड्डो जी छड्डो – छड्डो,
मैं कहना जी छड्डो – छड्डो,
चंगा है जग्या रेहंदा,
करदा है बड़ी खराबी, जिथ्थे वी वेल्ला बेन्दा दिल,
वी ओस्नू देवो दिल, जो मरज़ पहचाने,
दुख-सुख सहाई हो के
अपना जो फरज़ पहचाने,
दिल है शीशे दा खिलौना,
टुट्टेया फेर रास नी औना,
हो पीरा, हरो सजना, दिल –
दिल दा मामला है – दिल दा मामला है।

आज के लिए इतना ही, नमस्कार।