लंदन प्रवास के कुछ इस वर्ष के और कुछ पिछले वर्ष के अनुभवों को मैं इन दिनों शेयर कर रहा हूँ, इस क्रम में मैं आज ही के अनुभव अभी शेयर करूंगा।

आज की हमारी मंज़िल थी- ओ-2, यह आप समझ लीजिए कि मार्केट-कम-ईवेंट ऑर्गेनाइज़ेशन प्लेस है। लंदन ओलंपिक्स के दौरान इसे बनाया गया था। हमारे घर से यहाँ आने के लिए थेम्स नदी के नीचे से ट्यूब रेल द्वारा एक अगले स्टेशन पर जाना होता है। इसको आप ऐसा समझ लीजिए कि एक ही छत के नीचे पूरा कनॉट-प्लेस है, बहुत सुंदर सज्जा के साथ, एक छत के नीचे ऐसे जैसे गुड़गांव में ‘किंगडम ऑफ ड्रीम्स’ है। हाँ छत को यहाँ आकाश का रूप नहीं दिया गया है।

यहाँ जैसे मुख्य बाज़ारों में होता है आपको सब कुछ मिल जाएगा, ब्रांडेड सामान, फैंसी सामान, मुझे तो वैसे खरीदारी का अनुभव नहीं है लेकिन यहाँ से मेरे बेटा-बहू ने हमारे लिए काफी कुछ खरीदा। यहाँ सिनमा हॉल तो हैं ही, ईवेंट भी होते रहते हैं, जैसे आज ही सुनिधि चौहान का कार्यक्रम शाम को हुआ होगा, हम तो खैर दिन में गए थे।

 

 

यहाँ खाने-पीने का भी पूरा एक बाज़ार है और हाँ उसमें दो-तीन दुकानें तो भारतीय भोजन भी प्रदान करती हैं। एक जिसमें हम गए, ‘जिमी’ज़ वर्ल्ड ग्रिल एंड बार’, बहुत शानदार रेस्टोरेंट था, ‘बार्बे क्यू नेशन’ की तरह, बफे सिस्टम वाला और यहाँ बहुत स्वादिष्ट भारतीय पकवानों की विशाल रेंज उपलब्ध थी, इतनी कि मैं वास्तव में ज्यादा खा गया, और फिर मीठे का तो मुझे विशेष शौक है, उसने भी भोजन की मात्रा बढ़ा दी। स्टॉफ में काफी लोग भारतीय और एशियाई थे।

विशेष रूप से रेस्टोरेंट में भारतीय झंडा भी लगा था और सजावट बहुत आकर्षक थी। मेरा बेटा बता रहा था कि काफी दिन से उसका यहाँ आने का विचार था, जो आज क्रियान्वित हो गया। जैसा मैंने बताया सुनिधि चौहान का भी आज वहाँ प्रोग्राम था।

खाने के बाद हम खरीदारी के लिए ऊपर गए और इस मार्केट-प्लेस का यह हिस्सा इस वर्ष ही चालू किया गया है, मार्केट को स्टूडियो की तरह सजाया गया है और यहाँ सफाई तो रहती ही है।

वापसी में ओ-2 मार्केट के बाहर ही ‘ऑटम फेस्टिवल’ के अंतर्गत स्टॉल लगे थे, उनको देखा। यहाँ की गर्मी तो हमारे लिए हल्की सर्दी जैसी होती है, ऑटम उससे कुछ ज्यादा और फिर सर्दी तो आखिर सर्दी ही है!

वैसे तो मैं ओ-2 मार्केट प्लेस में कई बार गया हूँ लेकिन आज का यहाँ का खाना और खरीदारी कुछ ज्यादा ही मजेदार थीं। जैसा इसका नाम है ‘ओ-2’ यह वास्तव जीवन में ऑक्सीजन की तरह है।

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

********