लंदन प्रवास के इस वर्ष के अनुभवों के अंतर्गत आज मैं बात करूंगा ‘क्लासिक बोट-फेस्टिवल’ की, जिसे हम आज देखने गए और मैं आज इसी का अनुभव शेयर कर रहा हूँ।

 

सभी प्रमुख पर्यटन केंद्रों पर यह भी परंपरा होती है कि वे समय-समय पर ऐसे विभिन्न मेले, उत्सव आदि आयोजित करते रहते हैं जिससे पर्यटकों के उत्साह में कुछ अतिरिक्त उछाल आता है। मैं गोवा में ऐसे आयोजनों के बारे में तो जानता ही रहा हूँ। अभी लंदन में हूँ तो यहाँ आजकल ‘ऑटम फेस्टिवल’ भी आयोजित हो रहे हैं।

इसी क्रम में आज हम ‘सेंट केथरिन पायर’ पर गए, यहाँ 6 से 8 सितंबर तक ‘क्लासिक बोट फेस्टिवल-2019, का आयोजन किया गया है, जिसका आज अंतिम दिन था। यह स्थान टॉवर ब्रिज के बगल में है। एक बात और लंदन नगर क्योंकि थेम्स नदी के दोनों तरफ बसा है, और यहाँ नगर में अनेक नहरें इस मुख्य नदी से निकाली गई हैं। यहाँ पर अनेक आयोजन भी नदी और बोटिंग से जुड़े होते हैं।

 

अक्सर यहाँ इस प्रकार के आयोजन होते रहते हैं, एक तो विशाल शिप ‘कटी सार’ ग्रीनविच पर प्रदर्शनी के रूप में खड़ा हुआ है, जिसको देखने के लिए भारी संख्या में लोग आते हैं। इसके अलावा यहाँ अक्सर रंग-बिरंगी पालयुक्त नावें, ‘याच फेस्टिवल’ के आयोजन के रूप में निकलती रहती हैं। इसी प्रकार समय-समय पर बोटिंग के, कंपिटीशन, फेस्टिवल आदि भी आयोजित होते रहते हैं।

इसी क्रम में यह आयोजन विशेष महत्व का था, जिस प्रकार पुरानी विंटेज कारों की प्रदर्शनी बहुत से स्थानों पर होती रहती है, इसी प्रकार यह ‘क्लासिक बोट्स’ की प्रदर्शनी थी, जिसमें ऐसी पुराने समय की नावें लगाई गई थीं जिनकी ऐतिहासिक भूमिका रही है। कोई समय था जब नदियों और समुद्र में इन नावों का आधिपत्य रहता था, आज ये नावें अपने उन्नत इतिहास के बारे में बताने के लिए ‘सेंट केथरिन डॉक्स’ के सीमित क्षेत्र में सजी हुई खड़ी थीं, दर्शक इनके भीतर जाकर इनके प्रत्येक भाग को देख सकते थे।

जैसा कि होता है, इस बोट फेस्टिवल के एक अंग के रूप में अनेक आयोजन और गतिविधियां रखी गई थीं, जिनमें एक बैंड द्वारा गीत-संगीत की प्रस्तुति भी विशेष रूप से मोहने वाली थी, बाकी खाने-पीने के स्टॉल तो ऐसे में होते ही हैं।

 

 

इस प्रदर्शनी में एक अत्यंत सुंदर और सोने की नक्काशी से सजी नाव महारानी की भी थी, जिसे केवल बाहर से देखा जा सकता था। बाकी सभी ऐतिहासिक महत्व वाली नावों के भीतर जाकर हमने उनको देखा।

इस आकर्षक प्रदर्शनी का आनंद लेने के बाद हम वहाँ से ही नगर भ्रमण कराने वाले क्रूज़ में बैठकर ग्रीनविच तक गए और यहाँ भी नदी तट पर बने भवनों आदि के बारे में कमेंट्री के माध्यम से रोचक जानकारी प्राप्त की। यहीं हमें यह भी बताया गया कि नदी किनारे जहाँ नाव, क्रूज़ आदि रुकते हैं ऐसे अधिकांश स्थानों को ‘व्हार्फ’ कहा जाता है, उसका अर्थ है ‘वेयरहाउस एट रिवर फ्रंट’।

इस प्रकार ग्रीनविच पर विख्यात शिप ‘कटी सार’ को एक बार फिर से देखने के बाद हम वहाँ से ट्रेन पकड़कर अपने घर की ओर रवाना हो गए।

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

********