Tag: #MovingTogether

Life- a celebration of gratitude.

I remember a description of a character from a novel by late Mohan Rakesh Ji. He wrote about the convent school where the hero of the novel studied and he remembers the character – a priest in the boarding school […]

थोड़ी दूर साथ चलो!

आज ज़नाब अहमद फराज़ साहब की लिखी एक गज़ल याद आ रही है, जिसे गुलाम अली साहब ने बहुत सुंदर ढंग से गाया है। इस छोटी सी गज़ल में बहुत गहरी बात,अहमद फराज़ साहब ने बहुत सरल अंदाज़ में कह […]

Ad


blogadda

blog-adda

top post

BlogAdda

Proud to be an IndiBlogger

Skip to toolbar