समुद्र किनारे से सूर्यास्त देखकर एक शेर याद आ रहा है, शायद मीना कुमारी का लिखा हुआ है-

 

 

ढूंढ़ते रह जाएंगे, साहिल पे कदमों के निशां,
रात के गहरे समंदर में उतर जाएगी शाम।

 

आज के लिए इतना ही।
नमस्कार।

 

********